Story And Poem

Leaning Temple Of Huma विश्व का एकमात्र झुका हुआ मंदिर

12112169_548331331984579_6701278531225828671_n
12141664_548331335317912_1153043788116553576_n

आपने Leaning Tower Of Pisa का नाम तो सुना ही होगा। यह तो विश्व प्रसिद्ध् ईमारत है व थोड़ी झुकी हुई है जैसा की आप चित्र में देख सकते हैं। परन्तु क्या आप जानते हैं कि ऐसा ही एक अजूबा भारत में भी है। इसे हमा का झुका हुआ मंदिर भी कहते हैं। हमा का झुका हुआ मंदिर यानी Leaning Temple Of Huma विश्व का एकमात्र झुका हुआ मंदिर है जैसा कि आप चित्र में देख सकते हैं। यह अद्भुत मंदिर उड़ीसा के सम्बलपुर ज़िले के हमा गाउँ में स्तिथ है जो कि महानदी के तट पर बसा हुआ है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। वैसे तो यह बाकी मंदिरों की तरह ही तरह ही साधारण है परन्तु इसका थोडा झुका हुआ होना इसे अत्यंत विशेष तथा चमत्कारिक बनाता है। हालाँकि यह पता नही चला है कि इसे झुका हुआ ही बनाया गया था या फिर किसी प्राकृतिक कारणों से यह झुका हुआ है परन्तु है तो यह अद्भुत करिश्मा।
क्षमा करें अत्यंत व्यस्त होने के कारण भारत के धरोहरों व हिंदुत्व के विज्ञान के बारे में पोस्ट नही कर पाया। हर दो दिन में एक पोस्ट करने का प्रयास अवश्य करूँगा।
महर्षि भारद्वाज

मॉ से बडा कोई अध्यापक नही । ये कहाँनी पढकर आप समझ जायेंगे ।

48eab672-8198-4f73-9d2b-e73b95e8f8fe

एक दिन Thomas Alva Edison जो कि Primary School का विद्यार्थी था, अपने घर आया और एक कागज अपनी माताजी को दिया और बताया:-
" मेरे शिक्षक ने इसे दिया है और कहा है कि इसे अपनी माताजी को ही देना..!"
उक्त कागज को देखकर माँ की आँखों में आँसू आ गये और वो जोर-जोर से रो पड़ीं।
जब एडीसन ने पूछा कि "इसमें क्या लिखा है..?"
तो सुबकते हुए आँसू पोंछ कर बोलीं:- इसमें लिखा है..कि "आपका बच्चा जीनियस है हमारा स्कूल छोटे स्तर का है और शिक्षक बहुत प्रशिक्षित नहीं है,इसे आप स्वयं शिक्षा दें ।
कई वर्षों के बाद उसकी माँ का स्वर्गवास हो गया। Thomas Alva Edison प्रसिद्ध वैज्ञानिक बन गये।
उसने कई महान अविष्कार किये, कुल 1000 से भी ज्यादा अविष्कार।
एक दिन वह अपने पारिवारिक वस्तुओं को देख रहे थे। आलमारी के एक कोने में उसने कागज का एक टुकड़ा पाया उत्सुकतावश उसे खोलकर देखा और पढ़ने लगा।
वो वही काग़ज़ था..
उस काग़ज़ में लिखा था-
"आपका बच्चा बौद्धिक तौर पर कमजोर है और उसे अब और इस स्कूल में नहीं आना है।
एडिसन आवाक रह गये और घण्टों रोते रहे,
फिर अपनी डायरी में लिखा-
एक महान माँ ने बौद्धिक तौर पर कमजोर बच्चे को सदी का महान वैज्ञानिक बना दिया
यही सकारात्मकता और सकारात्मक पालक (माता-पिता) की शक्ति है ।
इसीलिए सदा सकारात्मक रहें।
शेयर अवश्य करें। शायद किसी की ज़िन्दगी बदल जाये जैसे मेरी बदली